Turn off light Favorite Comments (0) Report
  • Server 1
0
0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...

पड़ोसी ने मेरी बीवी को चुदाई का मजा दिया EP 1

सेक्सी वाइफ Xxx स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपनी हॉट बीवी को किसी गैर मर्द के लंड से चुदती देखना चाहता था लेकिन वो मना करती थी. आखिर मेरी फंतासी कैसे पूरी हुई?

मैं बैंगलोर से शाहबाज हूँ, लगभग 8 साल पहले मेरी शादी सुहाना के साथ हुई थी थी.

सुहाना के बारे में बता दूं, वो एक बहुत ही सेक्सी और खूबसूरत लड़की है.

उसका लगभग 5.6 इंच लंबी तराशा हुआ दूध सा सफेद जिस्म, भरा हुआ 32B-26-34 का मदमस्त फिगर.
सिर्फ एक बार देख लेने से कोई भी आदमी उसे पाने के लिए मर जाएगा.

वो खुद को फिट रखने के लिए रोजाना योग भी करती है.
जब मेरी उससे शादी हुई थी, तब मैं 27 साल का था और वो उस समय 23 साल की थी.

मैं एक अच्छी कंपनी में काम करता था और मेरा अपना फ्लैट था, जिसमें हम दोनों रहते थे.
हमारी सेक्स लाइफ इतनी अच्छी थी कि हम नियमित रूप से नई चीजों को आजमाते थे.

वह मेरे 4 इंच के आकार वाले लंड को मजे से चूसना पसंद करती थी.

शादी के कुछ महीनों के बाद मैंने अपनी सेक्स लाइफ के बारे में अजीब बातें सोचना शुरू कर दी थीं.
जैसे थ्री-सम, वाइफ शेयरिंग आदि.

मैं ये सब सुहाना को बताने से डरता था.

यहीं से मेरी सेक्सी वाइफ Xxx स्टोरी की शुरुआत होती है.

लेकिन फिर भी जब हम डिनर या किसी पार्टी के लिए बाहर जाते, तो मैं उसे छोटे और टाईट ड्रेस पहनने के लिए मना लिया करता था.
सुहाना एक मॉडर्न सोच की महिला थी तो वो भी खुशी-खुशी ऐसे कपड़े पहन लिया करती थी.

जब लोग उसे वासना से घूरते थे तो मुझे बहुत मज़ा आता था.
ये देख कर वो मेरी तरफ देखती … तो मैं भी आंख दबा कर उसे एन्जॉय करने का इशारा कर देता था.

वो भी मेरे इस तरह के रवैये से खुश हो जाती और मजा लेने लगती.

धीरे धीरे मैं उसे उकसाने लगा.
बिस्तर में मैं उसे किसी और के बारे में सोचने के लिए मना लेता था और उससे ही मुझे सुकून हो जाता था.

अब मैं एक और लड़के को लाने के बारे में कल्पना करने लगा था जो उसे मेरे सामने चोदे.
ये बात किसी तरह मैंने उससे कही.

मेरी यह बात सुनकर सुहाना गुस्से में आ गई.
उसने कहा- क्या तुम पागल हो शाहबाज! यहां तक तो ठीक था कि मैं छोटे कपड़े पहनूँ, सेक्स में तुम्हारी फैंटेसी को पूरा करने के लिए गैर मर्द का नाम लेकर सेक्स करूं … मगर मैं वो सब नहीं कर सकती, जो तुम कह रहे हो. बस ये मत सोचना.

मैं चुप हो गया और उसके बाद से मैंने उसके साथ इस बारे में कभी चर्चा नहीं की.

उसके बाद कुछ दिनों के बाद एक जोड़ा हमारे फ्लैट के बगल में हमारे पड़ोस में रहने के लिए आया.
ये एक दक्षिण भारतीय जोड़ा था.
दीपक अपनी पत्नी अंजलि और अपने एक साल के बेटे के साथ रहने आया था.

संयोग से दीपक मेरी कंपनी में ही काम करता था और हमारे शहर में स्थानांतरित कर दिया गया था.

दीपक एक अच्छा लड़का था और हम थोड़े समय के भीतर अच्छे दोस्त भी बन गए थे.
वह 6 फीट से ऊपर वाले कद का लंबा चौड़ा बलिष्ठ युवा था और सांवले रंग का था.

उसकी बीवी अंजली 5 फुट 3 इंच की थी. उसका जिस्म 34D-28-38 का था, पर वो भी सांवली थी.
जल्दी ही सुहाना और अंजलि भी आपस में सहेलियां बन गई थीं.

हम चारों रात में साथ में बातें करते थे, साथ में पिकनिक पर जाते थे.
एक दिन घर आने के बाद मैंने सुहाना को चिंतित अवस्था में देखा तो मैंने उससे पूछा- क्या हुआ डार्लिंग, तुम इतनी परेशान क्यों दिख रही हो?

उसने जवाब दिया- आज कुछ ऐसा हुआ, जिसकी मुझे उम्मीद नहीं थी!
मैं- क्या हुआ?

वो- आज मैं तुम्हारे ऑफिस जाने के बाद अंजलि के फ्लैट में गयी थी. मुझे प्यास लगी और मैं पानी पीने रसोई में चली गई. जैसे ही मैं पानी पी रही थी कि किसी ने मुझे पीछे से पकड़ लिया. मैं डर गई और देखा तो वो दीपक था. मैं चिल्लाई नहीं … और मैंने उससे धीरे से कहा कि मुझे छोड़ दो. लेकिन वह इतना मजबूत था कि उसने मुझे जोर से पकड़ा हुआ था. उसने मुझे मेरे होंठों में मुझे चूमा, मैं खुद को उससे छुड़ाने की कोशिश करने लगी लेकिन वह बहुत मजबूत था. उसने मुझे एक मिनट तक चूमा, उसके बाद मैं किसी तरह खुद को छुड़ा कर वहां से भागने लगी थी. लेकिन तभी अंजलि ने मुझे रोका और मुझे अपने पति को माफ करने के लिए कहा. उसने भी कहा कि यह दीपक की कमजोरी है. उसने उसे भी दो बार धोखा दिया है और गलती मेरी है कि गर्भवती होने के कारण मैं उसे ज्यादा सेक्स नहीं करने दे पा रही हूँ. तुम मुझे माफ कर दो.

अपनी बीवी के मुँह से यह सब सुनकर मैं एकदम से उत्साहित हो गया कि दीपक जैसे मर्द ने मेरी पत्नी को चूमा और वो उसे चोदना चाहता है.

अब सुहाना ने मुझसे पूछा- क्या आप दीपक से नाराज हैं?
मैं- अंजलि पहले ही उसकी ओर से माफी मांग चुकी है तो मैं क्या कर सकता हूं!

वो- क्या सच में शाहबाज!
सुहाना की बात में एक किलकारी थी. मैं समझ नहीं पा रहा था कि वो क्या चाहती थी.
यदि उसका दिल दीपक पर आ गया था तो उसे ये बात मुझे बताने की क्या जरूरत थी.
मैं कुछ समझ नहीं पा रहा था. बस इतना लगा था कि चीजें मेरे मुताबिक़ हो रही हैं.

उसी रात सेक्स करते समय मैंने सुहाना से पूछा कि क्या तुम दीपक को पसंद करती हो?
उसने जवाब दिया- तुम क्या सुनना चाहते हो?
मैं- मैं सिर्फ तुमसे पूछ रहा हूँ.

वो- अगर मैं हां कहूँ तो?
मैं- ओह सच में डार्लिंग, इसका मतलब है कि तुमको भी वो पसंद आ गया, जब उसने तुम्हें चूमा!
सुहाना शर्मा कर बोली- मुझे नहीं पता.

दो दिन बाद अंजलि कुछ दिनों के लिए अपने बेटे के साथ अपने घर चली गई.
इसलिए मैंने दीपक को उस रात हमारे फ्लैट पर ड्रिंक सेशन के लिए बुलाया.

मैंने सुहाना को भी हमारे साथ आने के लिए मना लिया.
एक घंटे के बाद मैंने नींद आने का नाटक किया और उन्हें जारी रखने के लिए कहा.

मैं बेडरूम में चला गया लेकिन वहां से जाने के बाद मैं अपने गेस्ट रूम के अन्दर में छिप गया और खिड़की से उन्हें देखने लगा.
मैंने दीपक को यह कहते सुना- उस दिन के लिए मुझे खेद है सुहाना!
‘इट्स ओके, ऐसा दोबारा न होने देना.’

‘मैं क्या कर सकता हूं, आप इतनी सुंदर हैं कि मैं खुद का रोक नहीं सका.’
‘इट्स ओके और थैंक्यू दीपक कि तुमने मेरी तारीफ़ की.’

‘मैं बस एक बार अपनी उंगलियों से तुमको छूना चाहता हूं.’
उसने मेरी बीवी की उंगलियां पकड़ लीं और सुहाना को चूमना शुरू कर दिया.

‘दीपक आप क्या कर रहे हैं … प्लीज़ मत करो.’
‘सुहाना, मुझे तुम्हें फिर से चूमना है वरना मैं मर जाऊंगा.’

ये कह कर दीपक ने फिर से सुहाना की कमर को पकड़ लिया और उसे चूम लिया.
सुहाना ने खुद को मुक्त करने की कोशिश की लेकिन वह नशे में थी इसलिए कुछ नहीं कर सकी या शायद वो दीपक से छूटना नहीं चाहती थी.

दीपक उसके होंठों को पूरी ताकत से चूम रहा था.
वह अपनी जीभ से उसके होंठ खोलने की कोशिश कर रहा था लेकिन सुहाना उसकी कोशिश बेकार कर रही थी.

दीपक ने धीरे-धीरे उसकी गर्दन को चूमना शुरू कर दिया.
उसके प्यार करने की शैली इतनी अच्छी थी कि सुहाना धीरे-धीरे उसकी वासना में डूबती जा रही थी.
दीपक ने सुहाना की गर्दन को चूमना जारी रखा.

फिर अचानक से उसके होंठों को फिर से चूमा.
इस बार सुहाना ने आखिरकार रास्ता दे दिया और अपना मुँह खोल दिया.

उसी पल दीपक ने अपनी जीभ को सुहाना के मुँह के अन्दर डाल दिया.

थोड़ी देर बाद दीपक ने उससे कहा- सुहाना माय डार्लिंग, आज रात मैं तुम्हें बहुत मुश्किल से पा सका हूँ और प्लीज़ रोकना मत, मैं तुम्हें चोदने जा रहा हूँ.

उसके बाद दीपक ने सुहाना की नाइटी को हटा दिया.
वह केवल ब्रा और पैंटी में आ गई थी.

दीपक ने सुहाना को किसी फूल की तरह उठाकर सोफे पर फेंक दिया.
मैं सोच नहीं सकता था कि वह कितना मजबूत था.

उसके बाद दीपक सुहाना पर कूद गया और उसे चूमना शुरू कर दिया.
उसने सुहाना के होंठ, गर्दन लगभग भंभोड़ डाले.
अब वह उसके निपल्स को ब्रा के बाहर से काट रहा था.

उस समय तक सुहाना पूरी तरह से उसकी वासना के आगे झुक गई थी.
वह जोरों से कराह रही थी क्योंकि दीपक उसके स्तनों को काट रहा था.

उसके बाद उसने उसकी ब्रा भी हटा दी और सुहाना की भरी हुई चूचियां अब दीपक की नजरों में गड़ गए थे.
उसने एक दूध को हाथ में ले लिया और दूसरे को चूसते हुए मसलने लगा.

सुहाना मस्ती से कराह रही थी.
कुछ मिनट के बाद दीपक खड़ा हुआ और उसने अपने कपड़े उतार दिए.
वो नंगा हो गया.

अब मैंने उसका लंड देखा, जो एकदम खड़ा था.
उसका लंड मुझसे लगभग दोगुना बड़ा था और बहुत मोटा था.

मैं यह सोचकर डर गया था कि वह इस मूसल लंड के साथ मेरी पत्नी को चोदेगा.
लेकिन मैं उन्हें रोक नहीं सका क्योंकि मैं खुद चाहता था कि दीपक मेरी बीवी को चोदे.

तब तक दीपक ने उसकी पैंटी को भी हटा दिया और अब उसकी गीली चूत चूसने जा रहा था.

जैसे ही उसने अपनी जीभ से उसकी चूत को छुआ, सुहाना कराह उठी ‘आह मर गई.’

सुहाना की इस मादक कराह से दीपक और अधिक उत्तेजित हो गया.
वो सुहाना की चूत को अपनी जीभ से चोदने लगा.

सुहाना का पूरा शरीर खुशी में काँप रहा था और कुछ ही मिनटों में उसे अपना पहला ऑर्गेज्म हो गया.
लेकिन दीपक नहीं रुका और उसने अपना काम जारी रखा.

कुछ मिनट के बाद दीपक ने सुहाना की चूत को चाट कर साफ़ कर दिया और वो रुक गया.
फिर वो ऊपर को आया और उसने अपने होंठ सुहाना के होंठों पर रख दिए.

सुहाना अब उससे चुदाई की भीख माँग रही थी- दीपक मुझे चोदो, प्लीज.

दीपक ने उसे कुछ देर तक फिर से चूस कर गर्म किया.
सुहाना दर्द और मस्ती में कराह रही थी.

दीपक ने उसे मिशनरी पोज में रखा और लंड को चूत के पास लगा दिया.
चूत गीली थी तो जरा से धक्के से लंड अन्दर घुस गया.

मगर सुहाना को मेरे चार इंच के लंड की आदत थी तो वो कराह उठी.

उधर दीपक ने सुहाना की कराह को नजरअंदाज किया और 2-3 तगड़े स्ट्रोक लगा कर अपना पूरा लंड अन्दर कर दिया.
सुहाना दर्द से कराह उठी थी; उसकी आंखों में आंसू आ गए थे.

थोड़ी देर बाद दीपक ने उसे जोर जोर से चोदना शुरू कर दिया.
उसके स्ट्रोक इतने शक्तिशाली थे कि सुहाना के स्तन उसके स्ट्रोक से गजब हिल रहे थे.

वह किसी जानवर की तरह मेरी बीवी के रसीले होंठों को चूम रहा था, चूस रहा था.
साथ ही वो सुहाना के स्तनों को जोर से दबाते हुए उसे चोदता जा रहा था.

सुहाना भी अब मस्त हो गई थी और दीपक को अपने पैरों से जकड़ रही थी, उसकी पीठ पर अपने नाखून लगा रही थी.
दस मिनट बाद दीपक रुक गया और अपना लंड निकाल कर खड़ा हो गया.

मैं समझ गया कि वो अपना लंड चुसवाना चाहता है.
सुहाना देर से समझ सकी और खुशी से दीपक के लंड को पकड़कर चूसने लगी.

दीपक- आहहह ,,, आह सुहाना.
कुछ दो मिनट की लंड चुसाई के बाद दीपक ने सुहाना के सर पर हाथ रख कर उसे अपने लंड पर दबा दिया और कराहते हुए अपना वीर्य उसके मुँह के अन्दर छोड़ने लगा.

नशे में सुहाना सारा वीर्य पी गई.

सुहाना अभी भी लंड को चाट रही थी.
इससे दीपक का लंड दुबारा खड़ा हो गया.

इस बार दीपक ने उसे उठाकर घोड़ी बना दिया और अपना लंड उसकी चूत में डालकर अपनी गति बढ़ा दी.
20 मिनट तक दीपक ने उसे अलग-अलग स्थिति में चोदा और जोर से कराहते हुए सुहाना को गाली देते हुए चोदने लगा.

दीपक- आह मेरी कुतिया … तुम्हारी चूत मेरे लंड को चूस रही है … मैं झड़ना चाहता हूँ.
इसी के साथ एक बड़ी आह के साथ वह अपना वीर्य सुहाना के गर्भ के भीतर छोड़ कर सहम गया.

सुहाना अत्यधिक आनन्द में कराह रही थी.
उसे वीर्य अन्दर ले लेने से कोई गम नहीं हुआ था.

उसके बाद दीपक कुछ मिनटों के लिए सुहाना पर लेटा रहा और उसके होंठों को चूमते हुए उसके स्तनों को दबाता रहा.

कुछ मिनट तक प्रेमालाप करने के बाद दीपक का लंड सुहाना की चूत के अन्दर ही कड़क हो गया था.
लंड वापस फॉर्म में आ गया था और सुहाना को चोदने लगा था.

उस रात मेरी पत्नी की कई बार जबरदस्त चुदाई हुई.
सुबह जब 4 बजे सुहाना बेडरूम में आई.

मैंने पूरी रात सोने का नाटक किया. मैंने उसे अपनी चुदाई से पूरी तरह से थका हुआ देखा, तो उसे अपनी ओर खींच लिया.

उसने मेरी पकड़ से खुद को छुड़ाते हुए कहा- मुझे कुछ नींद की ज़रूरत है.
वो करवट लेकर सो गई.

वह उनके अफेयर की शुरूआत थी.

अगले दिन वह अपने अगले सेक्स सेशन के लिए दीपक के फ्लैट में गई.
मैं समझ गया कि उसे दीपक की पावरफुल चुदाई की लत पड़ गई है.

उस रात मैंने सुहाना से कहा कि मुझे सब कुछ पता है.
सुहाना चौंक गई लेकिन मैंने कहा- सब ठीक है. मुझे उसके प्रेमी के साथ कोई ऐतराज नहीं है, जबकि मैं खुद तुम दोनों को सेक्स करते देखना पसंद करता हूं.
हम दोनों ने हालात को समझा.

सुहाना मुस्कुराई और उसने पूछा- तो आप चाहते हैं कि मैं अफेयर जारी रखूं?
‘हां, लेकिन मैं तुम्हारा सेक्स देखना चाहता हूं.’
वह मुस्कुरा दी.

कुछ दिन बाद अंजलि लौटी और उसे अपने पति के सुहाना के साथ संबंध के बारे में पता चला तो दीपक के जाने के बाद उसने मुझे अपने पास बुलाकर मुझसे कहा- अपनी पत्नी को मेरे पति को चोदने देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद शाहबाज. अब उसके पास चोदने के लिए दो महिलाएं हैं, इसलिए वह नियंत्रण में रहेगा. हालांकि ये जानकर बुरा लगा कि सुहाना ने तुम्हारे साथ चुदाई करना बंद कर दिया है. पर अगर तुम्हें जरूरत हो तो तुम मुझे कह सकते हो.

वो ये सब कहते हुए मेरे लंड को सहलाने लगी और मुझे सोफे में धक्का दे दिया.
मैं समझ गया कि मुझसे ज्यादा जरूरत तो इसे है क्योंकि सुहाना के मिलने के बाद दीपक अंजलि को कम चोदता था.

अगले ही पल उसने मेरे पैन्ट से मेरा लंड निकाला और चूसने लगी.
काफी दिनों बाद कोई मेरे लंड को चूस रहा था और उसका तरीका भी काबिले-तारीफ था.

वो बिल्कुल किसी रंडी की तरह लंड चूस रही थी.
मैं तो 2 मिनट में ही झड़ गया.

उसने मेरे लंड का पानी पी लिया और दुबारा उसे खड़ा करने लगी.
जब मेरा लंड खड़ा हो गया तो मैं सोफे से उठा और अंजली को उठा कर उसके होंठों से अपने होंठ मिला दिए.

अपने हाथ से उसके गाउन को उतार दिया, उसकी ब्रा को खोल कर स्तनों को चूसने लगा.

उसके मम्मों से दूध निकल रहा था क्योंकि अभी उसका एक साल का बेटा था और वो दुबारा पेट से थी.

उसने मुझे धक्का देकर सोफे में गिरा दिया और अपनी चड्डी उतारकर मेरे लंड पर अपनी चूत घुसा कर कूदने लगी.

उसकी चूत मुझे ज्यादा ही ढीली लग रही थी. मैंने सोचा कि अभी बच्चा हुआ है इसलिए ऐसा होगा.

पर जब मैंने उसे लंड से उतारकर घोड़ी बना दिया और गांड मारने के लिए उंगली डाल कर देखा, तो पाया कि उसकी गांड भी फटी हुई थी.

मैं उससे लंड चुसवा कर झड़ गया और घर चला गया.

दीपक सुहाना को कहीं भी, कभी भी चोदने लगा था; कभी हमारे घर में, कभी अपने फ्लैट में, कभी अंजलि के साथ.

सुहाना ने मेरे साथ सेक्स करना बंद कर दिया और मुझसे कहा कि वह मुझे अन्दर से प्यार करती है लेकिन उसके शरीर को दीपक की जरूरत है. वो उसके साथ ठीक थी क्योंकि मैं उसे उसके प्रेमी द्वारा चोदते हुए देखकर और अधिक आनन्द लेता था.

क्योंकि सच कहूँ तो मुझे उसकी चूत ढीली सी महसूस होने लगी थी.
यहां तक उसने दीपक से अपनी गांड भी खुलवा ली थी.

कुछ महीनों के बाद वह दीपक द्वारा गर्भवती हो गई और नौ महीने बाद उसने एक सुंदर बच्ची को जन्म दिया.
मैं बहुत खुश था.

उन्होंने अपना चक्कर जारी रखा क्योंकि सेक्सी वाइफ Xxx लंड की आदत हो गयी थी.

दो साल बाद एक बार फिर गर्भवती होने के बाद, इस बार एक लड़का हुआ, जिसके साथ दीपक 4 बच्चों का पिता बन गया.

दो उसकी पत्नी से और दो सुहाना से.
फिर दीपक का अमेरिका में तबादला हो गया और वह अपने परिवार के साथ चला गया.

उसके बाद सुहाना एक वफादार जोरू बन गयी पर दीपक ने उसके सारे छेद ढीले कर दिए थे.
सुहाना का बदन 2 बच्चों और कई सालों की चुदाई के बाद पूरा भर गया था.

अब 8 साल बीत चुके हैं.
मैं अपनी खूबसूरत बीवी और दो बच्चों के साथ खुशी-खुशी रहने लगा था.
आपको मेरी सेक्सी वाइफ Xxx स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ कमेंट्स करें.

Duration:

Quality: HD

Server Language Quality Links

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *