Turn off light Favorite Comments (0) Report
  • Server 1
  • Server 2
0
0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...

पति ने मुझे उसके बॉस से लाइव चुदते हुए देखा

pinkheartmovies में पढ़ें कि मेरे पति का लंड खड़ा नहीं होता था, मेरी चूत लंड के लिए तड़प रही थी। इस बात पर पति से लड़ाई हो गई। मैंने इसका बदला उसके बॉस से चूत मरवाकर लिया! कैसे?

सभी को सिमरन का बड़ा सा ‘हैलो’!
कैसे हो आप सब?
उम्मीद है मजा ले रहे होंगे।

अब सीधे काम की बात पर यानि pinkheartmovies पर आती हूं दोस्तो!

मेरे हस्बेंड ने बहुत दिनों से मुझे चोदा नहीं था।
ऐसा नहीं था कि वह मुझे चोदना पसंद नहीं करता था.
लेकिन सच्चाई तो यह थी कि वो मुझे अब चोदने लायक रहा नहीं था।
मैंने आपको सच साफ साफ बता दिया है क्योंकि मैंने ऐसे ही जीना सीखा है।

चुदाई के लिए कई महीनों तक तरसने के बाद मैंने अपने नाकारा पति का इस सच से सामना करवाया, उसे बताया कि बीवी की चुदाई करना उसका पतिधर्म है।
मैंने उसके मुंह पर इस बात के लिए थूका भी।

मैं बोली- तुम नामर्द बन चुके हो, ये सच है, और इसे तुम्हें मानना ही होगा।
ये सुनकर मेरा पति आग बबूला हो गया और बोला- चुप कर, साली मोटी! मैंने कहा था तुमसे कि मुझे तुम्हें चोदने का मन नहीं करता है। जाओ, जाकर पहले अपना साइज कम करो।

दोस्तो, अगर यही सच होता तो वह ऐसे बीच में बात को पूरी किए बिना भाग नहीं जाता।

मैं जाकर अपने बेड पर गिर गई और वो अपनी दारू के साथ व्यस्त हो गया।
एक आम जोड़े की तरह शनिवार की रात की शुरुआत हम लड़ाई से करके सोये।

अगले दिन पति उठा तो उसका सिर चकरा रहा था।
वह डाइनिंग टेबल एक हाथ से अपना सिर पकड़े बैठा था।

मैं टीवी देखकर किसी तरह अपना ध्यान मोड़ने की कोशिश कर रही थी कि किसी तरह मेरी चुदाई की आग शांत हो जाए।

उसी वक्त दरवाजे की घंटी बजी।
हम दोनों में से किसी को अंदाजा नहीं था कि दरवाजे पर कौन हो सकता है.
यह हम दोनों के लिए हैरान करने वाला था।

4-5 घंटी बजने के बाद पति उठा और दरवाजा खोलने गया।
वह दरवाजे पर खड़ा किसी से माफी मांगने लगा।

अब मेरा ध्यान भी वहीं टिक गया कि आखिर आया कौन है जिससे मेरा पति माफी मांग रहा है।
फिर वह अंदर आने लगा तो मैंने देखा कि उसके पीछे एक 50-55 साल का गंजा आदमी चला आ रहा है।

मेरा पति इशारे में मुझे अंदर जाने के लिए कह रहा था।

पहले तो मैं उसका इशारा समझी नहीं … लेकिन जब मैंने देखा कि वो अजनबी मेरी ओर आँखें फाड़कर देख रहा है, तब मुझे ध्यान आया कि मैं तो केवल शॉर्ट्स में थी, और उसकी नजर मेरे बदन पर।
इसीलिए पति मुझे अंदर जाने के लिए कह रहा था।

जब पति ने देखा कि वो गंजा आदमी मुझे लगातार घूर रहा है तो पति के ध्यान को हटाने के लिए वो यहां-वहां देखने लगा।

मैं उठकर बेडरूम में चली गई और पीछे पीछे पति भी आ गया।

पति- तुम्हें बिल्कुल भी शर्म नहीं आती है क्या? तुम उसके सामने ऐसे नंगी कैसे बैठी रह सकती हो?
मैं- अच्छा! तो तुम उस हवशी पर क्यों नहीं चिल्लाए, जब वो मेरी तरफ ऐसे घूर रहा था? और तुम उसे अंदर लाए ही क्यों जब पता था कि मैं सामने सोफे पर बैठी हुई हूं!

पति- वो मेरा बॉस है, वो … खैर, छोड़ो! तुमसे तो बात करना ही बेकार है।
वह दरवाजा पटकते हुए रूम से बाहर निकल गया।

मैं बेड पर गिर गई और फोन उठा लिया।

देखा तो मेरे बॉयफ्रेंड का मैसेज आया हुआ था।
उसने लिखा था कि काम की वजह से वो मिलने नहीं आ पाएगा।

अब मेरा मूड और ज्यादा खराब हो गया।
मैं बिना चुदाई के ऐसे घर में कैद होकर नहीं रहना चाहती थी, मुझे ये सोच सोचकर बहुत गुस्सा आ रहा था।

मेरी चूत में आग लगी थी और मुझे लंड नहीं मिल रहा था।
मैं करूं तो क्या करूं, सोचकर परेशान हो रही थी।

फिर मेरे शातिर दिमाग ने एक आइडिया मुझे दिया।
मुझे ध्यान आया कि पति का बॉस मेरे मोटे चूचों को देखकर पागल हुआ जा रहा था।
मैं भी अपने पति को दिखाना चाहती थी कि कैसे कोई मर्द मेरे लिए एकदम से पागल हो सकता है।

मैंने एक ढीली टीशर्ट पहनी और बाहर आ गई।
मेरे आने तक वो व्हिस्की की एक बोतल खोल चुके थे।

मैं उन दोनों के पास आकर बैठ गई और पति ने उससे मेरा परिचय करवाया।

लेकिन मैं देख पा रही थी कि कैसे उसकी आंखों से मेरे जिस्म को देखकर हवस टपक रही थी।
बॉस- तो सिमरन, हमारे साथ आप पीना पसंद करोगी? या फिर अपने पति के सामने तुम्हें शर्म आती है?

मैं हंसती हुई- अरे सर, आप ड्रिंक तो बनाओ, फिर मैं बताती हूं।
मैंने आंख मार दी.

इस तरह से मैंने माहौल को थोड़ा रोमांचक बना दिया।

मेरी सेक्सी आवाज सुनकर वो सोफे के किनारे तक खिसक आया था और मेरी क्लीवेज उसकी नजर को मेरी चूचियों से हटने नहीं दे रही थी।

लेकिन एक आदमी जो इन पलों का मजा नहीं ले रहा था, वह मेरा पति था।
वह लगातार पैग पर पैग बनाकर गटक रहा था और देख रहा था कि कैसे उसका बॉस उसकी बीवी के बदन को घूरकर खाने पर उतारू है।

दारू तो हम भी पी रहे थे लेकिन मेरा पति सबसे ज्यादा धुत्त था।

मैंने उसकी हालत देखी और मैं अब एकदम से सहज हो गई।
उसके बॉस को मैंने मेरे पास आकर बैठने के लिए कहा।

मैंने फोन में अपनी ऑफिस की फोटो दिखाने के बहाने उसको अपनी नंगी तस्वीरें भी दिखा दीं जो मैंने अपने बॉयफ्रेंड को भेजी हुई थीं।

मेरे पति का बॉस अब और ज्यादा उत्तेजित हो गया।
वह तेजी से चखना खाने लगा था।
अपने मुंह में मूंगफली फेंकते हुए एक मेरी क्लीवेज में भी आ गिरी।

बिना सोचे उसने मेरी क्लीवेज में से वो दाना उठाने के लिए हाथ बढ़ा दिया।
उसने हाथ अंदर दे दिया और मेरी चूचियों की गोलाइयों का मजा लेने लगा, उनको हल्के से दबाने लगा।

इस पर मेरा पति बोला- बॉस, आप थोड़ा ध्यान रखो, प्लीज!
पति ने टोका तो बॉस को एकदम से ध्यान आया कि पति भी वहीं मौजूद है।

लेकिन मैंने पति को सबक सिखाने के लिए बॉस का ही साइड लिया।
मैं पति से- तुम्हें दिक्कत क्या है? तुमने तो कहा था कि मैं अब अच्छी नहीं लगती हूं। तो अब तुम जल क्यों रहे हो? बॉस, आप अपनी मूंगफली ढूंढना जारी रखो।

मेरी सहमति पाकर उसके बॉस ने दोनों हाथ मेरी टीशर्ट में दे दिए।
उसने मेरे चूचों को थाम लिया और दोनों को एकसाथ दबाने लगा।

मैं भी मस्ती में खिलखिलाने लगी जिसने बॉस की हिम्मत और ज्यादा बढ़ा दी और पति को और ज्यादा जला दिया।

पति नशे में- साले टकले, मेरी बीवी से दूर हो जा! उसकी चूचियों को दबाना बंद कर!
मेरे पति की आवाज इतनी तुतला गई थी कि ठीक से समझ नहीं आ रही थी।

इस मौके का फायदा उठाकर बॉस ने पास से जाकर मेरी चूचियों को दबाते हुए मेरे हस्बेंड को दिखाया.
क्योंकि बॉस जानता था कि अब हस्बेंड कुछ नहीं कर सकता था।

मैं- तुम पागल क्यों हो रहे हो? तुम्हारे बॉस ने मेरी चूची पहले ही देख ली हैं। और तुम्हीं ने तो कहा था कि अब तुम्हें मैं अच्छी नहीं लगती हूं।

मैंने अपनी टीशर्ट खींचकर निकाल दी; अपनी मोटी चूचियां मैंने बॉस के सामने परोस दीं।
लेकिन बॉस को ये गलतफहमी हो गई कि मैंने चूचियां चूसने के लिए बाहर निकाली हैं।

उसने दोनों चूचियों को हाथों में थाम लिया और दोनों को बारी बारी से पीते हुए उनके निप्पल चूसने लगा।

ये देखना मेरी पति को बिल्कुल भी गंवारा न हुआ।
लेकिन उसमें इतनी हिम्मत नहीं थी कि वो अपने बॉस को एक तरफ धकेल दे।

बजाय हटाने के, वह देखता रहा कि कैसे उसका बॉस उसकी बीवी की चूचियों को मसल रहा था।
उसकी जुबान भी तभी निकली, जब मैंने उसकी तरफ देखा।

इतने में मैंने बॉस की पैंट को खोलकर नीचे खींच दिया और अंडवियर हटाकर लंड को नंगा कर लिया।

उसके मोटे पेट के नीचे उसका लंड फुंफकार रहा था।
मैंने लंड को थाम लिया और मुठ मारने लगी।

बॉस को इतना मजा आने लगा कि वो जैसे सातवें आसमान की सैर करने लगा।

मैं- तुमने कहा था न कि मैं मोटी हूं! तो लगता है कि तुम्हारे बॉस के लिए तो मैं एक परफेक्ट मैच हूं! ये भी मोटा, और मैं भी! तुम अपना पैग पीना जारी रखो, तब तक मैं तुम्हारे बॉस को दूध पिला देती हूं।

मैंने देखा कि उसके बॉस को मेरी चूचियों को ऐसे निचोड़ते देख पति के लंड में भी तनाव आने लगा।

अब माहौल की आग को और ज्यादा भड़काने के लिए मैंने अपने शॉर्ट्स भी निकाल दिए।
मैं सोफे पर डॉगी स्टाइल में बैठ गई।

मेरी गोरी-नंगी, मोटी गांड को देखकर उसके बॉस का दिल जैसे थम सा गया।
वह हथेलियों से मेरे नर्म चूतड़ों को रगड़ने लगा।
शायद उसे समझ नहीं आ रहा था कि उनके साथ कैसे मजा लेना है।

हस्बेंड- रुक जाओ! तुम मेरी बीवी हो, मेरे साथ ऐसा कैसे कर सकती हो?
मैं- देखो जरा अपनी तरफ … इस कुत्ते को मेरे जिस्म से खेलता देख तुम्हारा लंड भी खड़ा हो गया है। थोड़ी हिम्मत करो और इससे कहो कि हमारे घर से निकले। और हां, तुमने ही तो कहा था कि अब मैं तुम्हें अच्छी नहीं लगती हूं!

पति- क्या तुम अब इस बात को बार बार कहना बंद करोगी?
मैं बॉस से- और तुम कुत्ते, अब मेरी गांड को मजा दो। मैं तुम्हारी जीभ को ऐसी जगह तक ले जाना चाहती हूं, जहां ये पहले कभी न गई हो।

पति के बॉस ने मेरा कहा माना और वो ठीक मेरे पीछे आकर बैठ गया।
उसने मेरी गांड में मुंह देकर पहले उसे खूब रगड़ा।
कभी वो गांड के छेद में नाक रगड़ता तो कभी मेरी चूत के होंठों पर नाक से मजा देता।

मेरी गांड के सारे एरिया को नाक से चेक करने के बाद उसने दारू की गंध लिये उसकी जीभ को यहां वहां फिराना शुरू कर दिया।

मैंने देखा कि मेरे पति का हाथ भी अब उसके लंड तक पहुंच रहा था।
लेकिन जैसे ही उसने देखा कि मैं उसे लंड छूते हुए देख रही हूं, उसने तुरंत हाथ पीछे खींच लिया।

उसका बॉस अब भूखे कुत्ते की तरह मेरी गांड को चाट रहा था, मेरे चूतड़ों को काट काटकर खा रहा था।
उसकी जीभ जब भी मेरी गांड पर सहलाती तो मेरी सिसकारी निकल जाती थी।

बॉस अब और ज्यादा गंदे सेक्स पर उतर आया था.
और मेरा पति और ज्यादा कामुक होता जा रहा था।

अब pinkheartmovies बॉस फक़ की शुरुआत करते हुए अपने लंड के टोपे को मेरी चूत पर रगड़ने लगा।
लंड अंदर डालने से पहले उसने मेरे पति को सॉरी भी कहा।

उसके बॉस का लंड जब मेरी चूत में अंदर गया तो मैंने जानबूझकर बहुत तेज आवाज में बहुत ज्यादा कामुक सिसकार निकाली।

वह अच्छे से चुदाई नहीं कर पा रहा था क्योंकि वह भी नशे में था।
इसलिए मैं ही अपने चूतड़ो को तेजी से आगे पीछे चलाने लगी ताकि उसके लंड से अच्छी तरह चुद सकूं।

मेरी स्पीड इतनी तेज थी कि वह बहुत देर तक टिक नहीं पा रहा था। वह लंड को मेरी चूत से बाहर निकालना चाह रहा था ताकि कुछ देर चोदने का मजा ले सके लेकिन मैं बार बार उसका हाथ पकड़ लेती थी।

अब उसकी सिसकारियां मुझसे भी ज्यादा तेज हो गई।
मुझे पता चल गया कि उसका छूटने वाला है।

मैं जल्दी से पलटी और गिलास उठाकर उसके आंडों के नीचे लगा लिया और लंड की मुठ मारने लगी।

कुछ ही पल में उसके लंड से वीर्य की मोटी पिचकारी छूट पड़ी।
मैंने सारा माल व्हिस्की के गिलास में भर लिया और गिलास को टेबल पर रख दिया।

मेरा नशे में धुत्त पति उसकी फैंटेसी को पूरा होते देख अभी भी जैसे सदमे में था।

उधर उसका बॉस इस हैवी चुदाई वाले राउंड के बाद सोफे पर गिर चुका था।

मैंने उसे उठाया और उसे बैठाकर उसकी पैंट ऊपर की और पहना दी।
फिर मैंने वीर्य वाले गिलास में व्हिस्की मिला दी ताकि वो वीर्य उसमें दिखाई न दे।

फिर मैं वहां से निकल गई।

लगभग सुबह के 4 बजे उन दोनों को कुछ होश आया।
मैंने भी चुपके से सुना कि कैसे वो दोनों रात में आए तूफान के बारे में बात कर रहे थे।

उन्होंने एक एक पैग और लिया और फिर मेरे पति ने उसको घर से खुशी खुशी विदा कर दिया।

पति जब बेडरूम में आया तो मैं एक किताब पढ़ रही थी।
मैं हैरान थी कि रात में हुई लड़ाई को वो भूल चुका था और मुझसे नॉर्मल तरीके से बात कर रहा था, जैसे हम रोज करते थे।

लेकिन मुझे शक था कि उसको कल रात के बारे में कुछ न कुछ शक तो जरूर था।
पति- हनी, क्या तुम भी दारू पीते हुए हमारे साथ थीं?
उसने शक भरे अंदाज में देखा.

मैं- मैं उस गंजे के साथ वहां बैठकर ड्रिंक क्यों करूंगी, जब मैं अकेली पी सकती हूं।
मैंने ड्राअर खोलकर एक खाली दारू की बोतल उसे दिखा दी.

पति- मैं जानता हूं, लेकिन … मैं समझ नहीं पाया कि मेरे बॉस ने मुझे ये क्यों कहा कि ‘तुम्हारी बीवी के लिए सॉरी’! मेरा मतलब उसने ऐसा किसलिए कहा। ओह … शायद उसने उस बात के लिए माफी मांगी होगी जब उसने तुम्हें नंगी बैठी देख लिया था, जब वह अंदर आया था।

मैं- नहीं, उसने उसके लिए ये नहीं बोला, मेरा मतलब … हां, हो सकता है शायद।
मेरा पति दिमाग पर जोकर डालकर रात की घटना याद करने की कोशिश करते हुए वहां से निकल गया।
लेकिन उसे उस वक्त ये नहीं पता था कि अब आगे क्या होने वाला है।

लेकिन दोस्तो, मैं आप लोगों को इसका इशारा दे देती हूं, मैं उसके बॉस से फिर दोबारा से मिली!

तो कैसी लगी ये pinkheartmovies बॉस फक़ कहानी?

अगर आप भी कैम पर मुझे नंगी देखना चाहते हैं और चाहते हैं कि मैं आपके मन मुताबिक बात करूं, आपका मनोरंजन करूं, तो मैं आपका अकेलापन दूर करने के लिए तैयार हूं।

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *